जब निकला वो नगें पांव…लगे जिंदाबाद के नारे

हरियाणा
सिरसा।एक दशक से राजनीति में कुछ राजनेता अपनी दबंगई के लिये प्रख्यात है या किसी अन्य कारणों से चर्चा में आते है।सिरसा में एक निर्दलीय प्रत्याशी गोकुल सेतिया उस समय जबरदस्त चर्चा में आया जब वो चुनाव हारने के बाद अपने सर्मथको को धन्यवाद प्रेषित करने के लिए पूरे शहर में नगें पांव निकल पड़ा।उन्होंने धन्यवाद में कहा वो अपने उस हर वोटर को धन्यवाद करने आये है, जिन्होंने उन्हें वोट किया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गोकुल सेतिया ने बेशुमार दौलत के मालिक व बलात्कार कांड के चर्चित गोपाल कांडा के सामने निर्दलीय चुनाव लड़ा और मात्र 602 वोटो से हारे।शायद हारने का नाम नही है गोकुल सेतिया। इसीलिए गोकुल सेतिया हारने के बावजूद जनता को धन्यवाद करने सड़को पर उतरे। उनका कहना है कि जिन लोगो ने मुझे वोट देकर सर्पोट किया, मैं उनके पांव धोकर भी पीऊं तो भी कम है। नगें पांव घूमते हुए सेतिया को देख सिरसा के उन लोगो को पछतावा हुआ होगा,जिन्होंने उन्हें वोट नही किया। सनद रहे गोकुल सेतिया ने भाजपा से टिकट मांगा था, भाजपा से टिकट ना मिलने पर सेतिया ने निर्दलीय चुनाव लडा़ और मात्र 602 वोटो से ही हारे।

कौन है गोपाल कांडा

गोपाल कांडा हरियाणा के पूर्व मंत्री है।एम डी एल आर विमान कंपनी के मालिक है। उनकी इसी कंपनी की दिल्ली निवासी कर्मचारी गितिका की हत्या का मुकदमा चल रहा है। गितिका के भाई ने कांडा पर आरोप लगाये थे कि उनकी बहन की शारिरिक शोषण के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी। गोपाल कांडा का सिरसा सिथ्त घर किसी राजमहल से कम नही है। गितिका प्रकरण के बाद गोपाल कांडा ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नाम से एक राजनीतिक दल का गठन कर लिया था। हाल में चुनाव जीतने के बाद उन्होंने भाजपा को सर्मथन की बात कही,तो भाजपा में बवंडर हो गया।भाजपा ने कांडा के सर्मथन को मना कर दिया।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *