किसान बचाओं मंडी बचाओं रैली प्रतिबंध सरकार की बौखलाहट-निर्मला चौधरी

विरेन्द्र चौधरी 8057081945

हरियाणा सरकार द्वारा 3 अध्यादेश लागू करने के खिलाफ कुरुक्षेत्र में किसान बचाओ,मंडी बचाओ रैली पर प्रतिबंध लगाकर सरकार ने किसानों और व्यापारियों की पुलिस द्वारा धरपकड़ शुरू कर दी है, जिससे किसान की आवाज को यही दफन कर दिया जाए। यह साफ साफ हरियाणा सरकार की बौखलाहट का ही परिणाम दिख रहा है। महिला खाप पंचायत की अध्यक्ष निर्मला दहिया ने कहा कि देश में हर किसी को अपनी जायज मांग सरकार से कहने का हक है। बात को सुनने की बजाए लाठी चार्ज करना प्रजातांत्रिक देश में बहुत ही निंदनीय है।किसान पर दमनकारी नीतियां अपना कर प्रजातन्त्र की हत्या है।
भारतीय किसान बहुत मजबूत सोच रखता है, छोटी छोटी बातों पर तो ये खड़ा ही नही होता।लेकिन जब किसान के सिर के ऊपर तक पानी आ जाता है, तभी यह अपनी बात मौजूदा सरकारों को कहने को तैयार होता है और जब भी किसान की जायज मांगे नही मानी जाती तो यह त्रिनेत्र खोलने को मजबूर होता है।

महिला खाप की अध्यक्षा निर्मला दहिया ने कहा कि इन किसान विरोधी अध्यादेशो के खिलाफ देश के किसान ने अपना त्रिनेत्र खोल लिया है, जिसमे पूरे देश का किसान और मंडी व्यापारी व पूरा देश ही विरोध कर रहा है।इस तानाशाही अध्यादेश से जनता में भारी रोष है।क्योंकि जब किसान को अपनी फसल का पूरा पैसा ही नही मिलेगा तो वह तो बर्बाद होगा ही साथ ही आढ़तियों व व्यपारियो के भी बर्बादी के दिन आ जाएंगे।निर्मला चौधरी का कहना है कि इस अध्यादेश से सिर्फ और सिर्फ प्राइवेट कम्पनियां ही मालामाल होंगी, मंडियांं तो समझो बन्द ही हो जाएंगी।

निर्मला चौधरी ने कहा कि सरकार को चाहिये किसानों को लाठियों से पीटने की बजाए किसान प्रतिनिधियों को विश्वास में लेकर बातचीत से मुद्दे को सुलझाया जाए।
किसान देश की रीढ़ होता है अगर सरकारों ने देश की रीढ़ को ही लाठियों से पीटना शुरू कर दिया तो यह देश खड़ा नही रह पाएगा हमारा देश कृषि प्रधान देश है। ध्यान देने की बात है कि किसानों ही इस देश का पेट भरता है और किसानों के बेटे देश की रक्षा करते है इसलिये समय रहते किसान की समस्याओं का समाधान सुनिश्चित करे जिससे देश और परिवेश में शांति रहे।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *