मन चंगा तो कठौती में गंगा

मन चंगा तो कठौती में गंगा

On

पवन बंसल कांवड़ियों की याद… रात में नींद क्यों नहीं उचट रही? एक सुबह सोचता हूं। सावन शुरू हुए कई दिन हो गए। माते रोज अपने शिव पर बेल पत्र चढ़ा रही हैं। कहीं कोई शोर नहीं। इन दिनों में तो गजब…